रूस, चीन और नॉर्थ कोरिया के तानाशाहों से अनेक देशों को खतरा

Date:

Share post:

पूरा विश्व तीन देशों चीन, रूस और उत्तरी कोरिया के सनकी तानाशाहों के चलते पूरा विश्व युद्ध की आशंका से ग्रसित हैं। रूस यूरोपीय देश और यूक्रेन के साथ युद्ध में उसे तहस-नहस करने पर आमादा है और रूस ने यहां तक कह दिया है कि यदि अमेरिका ब्रिटेन सहित यूरोपीय देश यूक्रेन का खुलकर साथ देंगे तो वह परमाणु हमला भी कर सकता है। उधर चीन ताइवान को अपने देश का अभिन्न अंग मानता है दूसरी तरफ ताइवान अपने को स्वतंत्र राष्ट्र की तरह मान्यता देता है और अमेरिका यूक्रेन तथा देश को खुलकर मदद देने के लिए कटिबद्ध है, उधर नॉर्थ कोरिया अपनी विस्तारवादी सनक को लेकर साउथ कोरिया पर कब्जा जमाना चाहता है और साउथ कोरिया की अमेरिका से दोस्ती उसको फूटी आंखों नहीं भाती है। रूस,चीन और नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग,व्लादिमीर पुतिन,सी जिन पिंग समय-समय पर अपने विरोधियों और विरोधी नागरिकों को मौत के घाट उतारने से भी नहीं चुकते हैं। आपको याद होगा कि रूस में व्लादिमीर पुतिन ने अपने विद्रोही कमांडर की हत्या करवा दी थी और उसे सामान्य मौत का रूप दे दिया था इसी तरह शी जिनपिंग ने अपने विरोधियों की कई हत्याएं की है। इसी तरह नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन आजकल अपनी सनक की चरम सीमा पर है। नॉर्थ कोरिया की न्यूज़ एजेंसी के अनुसार उत्तर कोरिया के तानाशाह ने एक बार फिर अपनी सनक के चलते एक नौजवान की जान ले ली,इस नौजवान को जिसकी उम्र 22 साल थी सरेआम मौत की घाट उतार दिया,उसका जुर्म सिर्फ इतना था कि वह साउथ कोरिया देश के लोकप्रिय संगीत को सुन रहा था आरोप लगाया गया था कि उसने साउथ कोरिया के पॉप संगीत और फिल्में देखकर उत्तर कोरिया के सख्त कानून को तोड़ा है। इसी तरह एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार हुंग प्रांत के रहने वाले इस नौजवान को दक्षिण कोरिया के लगभग 70 गाने सुनने और तीन मशहूर फिल्मों को देखने का गुनहगार बताया गया और उसे मौत की सजा दे दी गईl युवक की हत्या से उत्तर कोरिया के नागरिकों बीच काफी निराशा तथा विद्रोह के स्वर मुखर हुए हैंl उल्लेखनीय है कि नॉर्थ कोरिया के पुलिस वाले अक्सर नागरिकों के मोबाइल को चेक कर यह देखते हैं कि उनमें बजने वाला वाला संगीत किस तरह का है और यदि वह प्रतिबंधित संगीत या फिल्म देखते हैं तो उन्हें बहुत कड़ी सजा दी जाती है। इसके अलावा उत्तर कोरिया में दुल्हनों को सफेद ड्रेस पहनना, दूल्हे को दुल्हन को साथ ले जाना, धूप का चश्मा लगाना एवं शराब पीने के लिए कांच के गिलास का इस्तेमाल करना अपराध है और इसके उल्लंघन में कड़ी से कड़ी सजा दी जाती है. नॉर्थ कोरिया की तानाशाह की सड़क चरम सीमा पर पहुंच गया है. उत्तर कोरिया में 2020 में रिएक्शनरी आईडियोलॉजी एंड कल्चर कानून बनाया गया जिसके तहत कई सामान्य चीजों को प्रतिबंधित कर दिया गया दक्षिण कोरिया के किसी भी संगीत पर बैन लगा दिया गया इसी तरह अन्य आवश्यक गतिविधियों पर भी कठोर कानून बनाए गए हैं। उत्तर कोरिया में खानपान तथा पहनावे को लेकर भी बेहद कड़े कानून है यहां कोई भी व्यक्ति चिपकी हुई जींस नहीं पहन सकता है एवं हर तरह के अपने मन माफिक हेयर स्टाइल भी नहीं रख सकता और विदेशी भाषा में लिखें टी-शर्तों पर भी प्रतिबंध है। उत्तर कोरिया के नागरिकों को दक्षिण कोरिया की संस्कृति संगीत और ड्रामा बहुत पसंद आता है पर यह बात उत्तर कोरिया की तानाशाह को अपने विरोध में नजर आती है और वह इसे अपनी चुनौती मानता है इसलिए उसने इन सब गतिविधियों पर कड़े कानून एवं प्रतिबंध लगा दिए हैं. इन प्रतिबंधों के नियमों के उल्लंघन में वह नागरिकों को मौत की सजा देने से भी परहेज नहीं करता है। उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन अपनी सनक के चलते लगातार परमाणु परीक्षण भी किया जा रहा है। नॉर्थ कोरिया, रूस तथा चीन के साथ मिलकर अमेरिका तथा यूरोपीय देशों के लिए बड़ा खतरा बन चुका है वह केवल सेवा के दम पर उत्तर कोरिया में राज कर रहा है वहां की जनता त्राहि त्राहि करने लगी है। अब वहां भी विद्रोह के स्वर सुनाई देने लगे हैं। यह तो तय है कि रूस चीन और नॉर्थ कोरिया में जब भी वहां के आम नागरिकों को मौका लगेगा वह विद्रोह कर इन लोगों को अपदस्त करने से नहीं चूकेंगे। नॉर्थ कोरिया में तानाशाह अपने आपको भगवान घोषित कर चुका है और रूस के तानाशाह लगातार पांचवीं बार जीत कर अपने आप को सबसे बड़ा शासक निरूपित करने में लगे हैं हालांकि यूक्रेन के साथ युद्ध में रूस के अरबो रुपए और लाखों लोग जान गंवा चुके हैं फिर भी इनका तानाशाह रूप और सनक कम नहीं हो रही है और यही कारण है कि एशिया के कई देशों सहित अमेरिका, ब्रिटेन कनाडा फ्रांस एवं अन्य देश परमाणु युद्ध की आशंका से ससंकित है क्योंकि यदि रूस या नॉर्थ कोरिया अपना परमाणु हथियार इस्तेमाल करतें है तो वह किसी एक देश के खिलाफ नहीं होगा बल्कि वह कई अन्य देशों को अपनी लपेट में लेकर लाखों लोगों की जान ले सकता है ऐसे में तीनों तानाशाहों को रोकने और नियंत्रित करने में भारत के रुस एवं यूक्रेन से अच्छे संबंधों के चलते भूमिका काफी महत्वपूर्ण हो जाती है। विकास के लिए मानवता के लिए एवं आने वाली पीढ़ी के लिए शांति तथा अमन बहुत महत्वपूर्ण है और विश्व युद्ध को टालना एक अहम मुद्दा होगा।

Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Related articles

वर्ल्ड एजुकेशन समिट एंड अवार्ड से सम्मानित हुई डॉ0 आकृति अग्रहरि

सुल्तानपुर। संविधान क्लब ऑफ इंडिया दिल्ली में वर्ल्ड एजुकेशन समिट एंड अवार्ड 20 जुलाई 2024 को आयोजन हुआ।...

वरिष्ठ समाजसेवी एवं लोकतंत्र सेनानी ने अपने जन्मदिन पर मरीजों को वितरित किया फल

जरवल, बहराइच। नगर के वरिष्ठ समाजसेवी एवं लोकतंत्र सेनानी प्रमोद कुमार गुप्ता ने अपनी 73वीं जन्मदिवस पर सामुदायिक...

भारतीय मूल की कमला हैरिस के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में आने से भारत पर क्या असर होगा?

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव धीरे-धीरे दिलचस्प होता चला जा रहा है। जो बाइडेन ने राष्ट्रपति चुनाव से अपनी...

भाजपा व आरएसएस में वाजपेयी जी के ज़माने वाला समन्वय अब भी जरुरी

आज गुरु पूर्णिमा का दिन है । जगह – जगह संघ में उनके गुरु (संघ का भगवा ध्वज...